Monday, 6 June 2011

उच्च शिक्षा का वर्तमान हाल

स्पष्ट रूप से पढ़ने के लिए इमेज पर डबल क्लिक करें (आप उसके बाद भी एक बार और क्लिक द्वारा ज़ूम करके पढ़ सकते हैं ) 

हिंदुस्तान-05/06/2011











 संकलन-विजय माथुर, फौर्मैटिंग-यशवन्त माथुर

3 comments:

  1. उच्च शिक्षा पर यह लेख बहुत विचारणीय है | एक तथ्य यह भी है कि निजी शिक्षा संस्थानों में वेतन पर हस्ताक्षर किसी धनराशी पर होतें हैं और दिया कुछ और दिया जाता है |

    ReplyDelete
  2. विचारणीय आलेख....

    ReplyDelete
  3. अब तो नम्बर बाँटने की भी होड़ लगी है.अब 90% से ऊपर बच्चों को नंबर देने का नया चलन भी चल पड़ा है. बच्चे तो जानते ही हैं की नंबर बाँट रहे हैं तो वो पढ़ें क्यों. शिक्षा की हालत तो बहुत बुरी है .अल्लाह ही मालिक है .

    ReplyDelete

कुछ अनर्गल टिप्पणियों के प्राप्त होने के कारण इस ब्लॉग पर मोडरेशन सक्षम है.असुविधा के लिए खेद है.