Thursday, 27 April 2017

Political opposition to the BJP in 2019; Knock Knock -- there's no one there ------ Sarita Rani


Sarita Rani



The Sangh is here to stay. It is not going away in 2019. 
It's followers will be raiding our homes, our shops, are kids, wives and daughters. It is killing people on the roads in broad daylight. No party or leader has stopped them. No one WILL stop them. No one's coming to help us. It is going to get worse, not better.
Now what are we prepared to do to save ourselves?
Sarita Rani
26-04-2017

KNOCK KNOCK - NO ONE'S THERE.
THE SANGH WILL SWEEP 2019. DON'T LET THE OPPOSITION SELL YOU SILLY DREAMS 
--------------------------------------------------------------
Here's Why :
1. They have the men, they have the might and they have the money too : More, they have the mood on their side. And sheer brilliance.
Performance, facts, data -- these have ceased to matter. Those who think the Sangh is stupid and call this "the Jumla Sarkar," have got the most important communication principle wrong.
I'm told Stanford has repackaged it as moral psychology.
But when people of my generation were educating ourselves, in Aristotlean times, "Jumla" used to be called Rhetoric.
The Sangh is a master of rhetoric.
It knows how to create the EXACT rhetoric, at different levels of information consumers.
That's why it SEEMS to contradict itself. But it really isn't.
It's merely a communication strategy.
They always have the message right on point for whoever they want to connect with. Sometimes this message spills over to other consumers and creates confusion.
The MNC consumers get the swadeshi message, and the "integral humanism" consumers get the "rape dead Muslim women," message.
But the Sangh is aware of the spillover and has a management strategy in place. It uses key spokesmen, at key points, to manage the costs. Sambit Patra and Naina for daily briefings. Kanchan Gupta for more involved conversations. Makarand Paranjpe for academia, Swarajyamag for intellectuals.
The riff-raff are too many to count. Zee News, whose strategy is evolving brilliantly on a daily basis; Rajat Sharma; newspapers they're buying or bullying by the dozens in all languages; Shiv Sena and it's communication factory and so on. .
Yet, when the costs become too high -- as with Smriti Irani -- the doen't hesitate to ruthlessly cut the cord.
They are playing the long con.
It is not stupidity. It is brilliance.
2. The Opposition has NONE of the above. NO OPPOSITION PARTY has the men, the might, the money, the mood or even a tenth of the brilliance the Sangh has.
There is not a single congress worker who will march unless he's paid to. That's the simple fact of the matter.
The Congress is dead in the water. Write its obituary and get on with it.
At the time of our greatest peril, there is a tendency to be most nostalgic.
But nostalgia can sometimes be a friend. Sometimes, it can be an enemy of the future.
THIS TIME, NOSTALGIA IS THE ENEMY.
Nehru is dead. So is Indira Gandhi and Rajiv Gandhi. They are the past.
The Congress was born in the throes of the Freedom Struggle. It is over a 100 years old.
This struggle needs a newer, more youthful leadership. People with fire in their belly. Hungry and angry. Refusing to compromise.
The Congress isn't that party anymore. It hasn't been that party for a few decades. The Congress is the party that made BJP possible; that MAKES BJP possible every single election.
I have friends who are die-hard Congress fans. But if ever there was a time for bitter truths, this is it. Surely, SOME things matter more than loyalty to a party?
3. That leaves the non-Congress Opposition. Well, what about them?
AAP? It lost Delhi Municipal. Kejriwal threatened a "movement" if he lost and made his first major compromise with a 'graceful defeat.'
It WILL be first of many major compromises he will make.
Second Rule of Fight Club -- Don't make threats you don't follow up on.
Then there's the little matter of AAP's non existence in most of India.
Local opposition parties? Either they're lining up to tie-up with the BJP; or they're all fighting with each other. U.P. and Bengal are eminent examples. Delhi is too, by the way. Read the non-EVM reason that Yogendra Yadav gave for Kejriwal's loss.
If you're looking for a viable, existing, political opposition to the BJP in 2019; Knock Knock -- there's no one there.
4. EVMs - I love technology, always have, always will. I normally believe that the solution to the ills of technology is more technology. But on this, I am THAT loony. There are some things that are best analog or brick and mortar.
MONEY and VOTES are two things, I firmly believe, should stay physical. There is evidence and MORE that EVMs are giving out false votes. Yet, we are always given an explanation we believe, because WE WANT TO.
We buy silly arguments like "only some are". But they came "from U.P. and didn't get enough time to rest (purge, puke?)"; But "they were not provided by the EC!"
The worst yesterday: "Tamper-able doesn't mean they were tampered with!!!"
The meme forgets to mention that they were apparently designed so that one cannot prove they were tampered with. (An alleged security feature so stupid, it beggars belief.)
But we are ready to buy any argument that doesn't force us to make hard choices.
POSTSCRIPT
So what are the hard choices?
The first hard choice is to let go of the imagination of hope.
To let go, is not to despair, but to stop pretending.
Reality begins where pretensions stop.
And it is only when we face reality, that we can begin to imagine action at all.
The Sangh is here to stay. It is not going away in 2019. 
It's followers will be raiding our homes, our shops, are kids, wives and daughters. It is killing people on the roads in broad daylight. No party or leader has stopped them. No one WILL stop them. No one's coming to help us. It is going to get worse, not better.

Now what are we prepared to do to save ourselves?

https://www.facebook.com/sarita.rani.01/posts/10154792331543842

Wednesday, 26 April 2017

मौसमी चटर्जी : 26 अप्रैल 1948






 Mausmi Chatterjee Did Rape Scene During Her Pregnancy
प्रेग्नेंसी में इस एक्ट्रेस ने किया था रेप सीन, शूटिंग के दौरान रोई, उल्टियां भी की
dainikbhaskar.com | Apr 19, 2017, 14:37 IST




मुंबई. एक्ट्रेस मौसमी चटर्जी 69 साल की होने जा रही हैं। 26 अप्रैल 1948 को कोलकाता में जन्मीं मौसमी ने कई फिल्मों में काम किया है। लेकिन 'रोटी कपड़ा और मकान' (1974) उनकी सबसे सक्सेसफुल फिल्म मानी जाती है। डायरेक्टर मनोज कुमार की इस फिल्म में मौसमी ने रेप सरवाइवर तुलसी का रोल किया था। फिल्म का रेप सीन हिंदी सिनेमा के सबसे डिस्टर्बिंग सीन्स में गिना जाता है। खास बात यह है कि मौसमी ने प्रेग्नेंसी की हालत में यह सीन किया था।रेप सीन के दौरान रो पड़ी थीं मौसमी...
- 2015 में एक इंटरव्यू में मौसमी ने 'रोटी कपड़ा और मकान' के रेप सीन की शूटिंग का किस्सा शेयर किया था।
- मौसमी ने कहा था, "इस सीन की खूब चर्चा रही थी। लोगों को यह सेंसिटिव लगा था। लेकिन इसकी शूटिंग बहुत मुश्किल थी। सीन में विलेन को मेरा ब्लाउज खींचते दिखाया गया है। मुझे चिंता थी कि यह सीन कैसे शूट होगा। सीन के लिए मैंने दो ब्लाउज पहने थे और विलेन ने ऊपर वाला ब्लाउज खींचा था।"
- इंटरव्यू में मौसमी ने बताया था कि जिस वक्त वे उस रेप सीन की शूटिंग कर रही थीं, उस वक्त उनके बाल बहुत लंबे थे। शूटिंग के दौरान उनके ऊपर ढेर सारा आटा गिर गया। वे पसीने से तर थीं और हर चीज उनसे चिपक जा रही थी। आटा भी उनके बालों में जा चिपका। अपनी हालत देखकर वे सेट पर रोने लगीं।
- मौसमी के मुताबिक, शूटिंग के बाद रात में 10.30 बजे वे घर पहुंचीं और बालों से आटा निकालते-निकालते उन्हें रात के 2 बज गए।
- मौसमी ने यह भी बताया था कि कुछ आटा उनके मुंह में चला गया था, जिसकी वजह से उन्हें खूब उल्टियां हुईं और उनकी हालत खराब हो गई। हालांकि, मौसमी की मानें तो डायरेक्टर मनोज कुमार ने उनकी खूब केयर की।
- मौसमी के मुताबिक, प्रेग्नेंसी की वजह से 'रोटी कपड़ा और मकान' का सॉन्ग 'तेरी दो टकिया की नौकरी' जीनत अमान को दे दिया गया था।
http://bollywood.bhaskar.com/news/ENT-BNE-this-actress-did-rape-scene-in-pregnancy-news-hindi-5578174-PHO.html



इंदिरा चटर्जी  का जन्म 26 अप्रैल  1953 में कोलकाता में हुआ था,  जिनका नाम मशहूर बंगाली फिल्म निर्देशक तरुण मजूमदार द्वारा बदलकर मौसमी चटर्जी कर दिया गया था. चौदह साल की उम्र में मौसमी चटर्जी बालिका वधू बन गईं.
खिलखिलाती सहेलियों के साथ स्कूल जाते हुए. मासूमियत भरी मस्ती और हंसने पर बढ़ा हुआ दांत दिखना, कंधे पर बस्ता टांगे हुए, लंबी- लंबी दो चोटियां उन्हें और भी मासूम बना देता था.
मशहूर बंगाली फिल्म निर्देशक तरुण मजूमदार नायिका के रोल के लिए उन्हें स्कूली लड़की की तलाश थी, जो देखने में मासूम लगे और चंचल भी. तरुण मजूमदार को लगा कि यह छात्रा उस रोल के लिए सही रहेगी. तरुण मजूमदार रोज मौसमी चटर्जी को देखते. उनकी निगाह में मौसमी चटर्जी की मासूमियत इस कदर बस गई कि उन्होंने सोच लिया कि मौसमी ही उनकी फिल्म में बालिका वधू बनेंगी.
उन्होंने जब इंदिरा से पूछा कि मेरी फिल्म में काम करोगी, तब बड़ी मासूमियत से उन्होंने ‘हां’ कह दिया, और पूछा कब से काम शुरू करना है? क्या आज से ही करना होगा? लेकिन मैं स्कूल से छुट्टी नहीं ले सकती. मुझे बाबा (पिताजी) से पूछना पड़ेगा.
सेना में नौकरी करने वाले सख्त स्वभाव वाले इंदिरा के पिता प्रांतोष चट्टोपाध्याय ने साफ मना कर दिया, ‘सवाल ही नहीं उठता. मेरी बेटी पढ़ेगी और खूब पढ़ेगी.’ तब तरुण मजूमदार ने बाबा को मनाने की जिम्मेदारी अपनी पत्नी संध्या राय को सौंपी जो उस समय बंगाल की लोकप्रिय कलाकार थीं. संध्या ने जैसे-तैसे बाबा को मना लिया और इस तरह चौदह साल की उम्र में इंदिरा बालिका वधू बन गई. लेकिन उन्हें अपना नाम बदलना पड़ा.
मौसमी का विवाह बहुत कम उम्र में हो गया था वे जितनी कम उम्र में परदे पर आई, उतनी ही कम उम्र में उनका विवाह भी हो गया. संयोग से प्रसिद्ध गायक हेमंत कुमार ने अपने बेटे रीतेश के लिए मौसमी का हाथ मांग लिया.शादी के बाद वे कोलकाता में रहने लगीं कोलकाता से मुंबई आने पर हेमंत कुमार ने मौसमी से कहा, ‘तुममें अच्छे कलाकार के सभी गुण मौजूद हैं. तुम्हारा चेहरा भी सिल्वर स्क्रीन के लिए एकदम सही है. तुम प्रतिभावान हो, फिल्मों में अभिनय जारी रखो. इस तराह उनके पति ने भी उन्हें हौसला दिया | उस समय तक कई जाने-माने निर्देशक पटकथा लेकर हेमंत कुमार के पास आते थे. तब उन्हें शक्ति सामंत की फिल्म ‘अनुराग’ की कहानी बहुत पसंद आई और 1972 में उन्होंने ‘अनुराग’ में काम करने के लिए शक्ति सामंत को हामी भर दी, लड़की की भूमिका इतने सशक्त ढंग से निभाई कि उस वर्ष की सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री का फिल्मफेयर पुरस्कार उन्हें दिया गया. इस फिल्म के सभी गाने खूब लोकप्रिय हुए थे. इस तरह यह सिलसिला चल निकला.
उसके बाद मौसमी ने कई प्रमुख फिल्मों में उस दौर के सभी बड़े अभिनेताओं के साथ काम किया. ‘रोटी, कपड़ा और मकान’, ‘उधार की जिंदगी’, ‘मंजिल’, ‘बेनाम’, ‘जहरीले इंसान’, ‘हमशक्ल’, ‘सबसे बड़ा रुपइया’ और ‘स्वयंवर’ उल्लेखनीय फिल्में हैं.
उनकी छोटी बेटी पायल भी कैमरे की बारीकियां समझने लगी हैं. हाल ही में मौसमी चटर्जी को बंगाल सिने आर्टिस्ट द्वारा लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड प्रदान किया गया. मौसमी की बड़ी बेटी मेघा को भी उनकी ही तरह तरुण मजूमदार बंगाली फिल्म ‘भालोबासेर अनेक’ नाम से फिल्मी दुनिया में पदार्पण करवा चुके हैं. यह जानना दिलचस्प होगा कि इस फिल्म में मौसमी ने मेघा की चचेरी बहन की भूमिका अदा की है.

http://www.indiajunctionnews.com/biography-about-moushumi-chatterjee/

Saturday, 22 April 2017

सेहत के पाँच तत्व : अर्थ डे (22 अप्रैल ) ------ शमीम खान

स्पष्ट रूप से पढ़ने के लिए इमेज पर डबल क्लिक करें (आप उसके बाद भी एक बार और क्लिक द्वारा ज़ूम करके पढ़ सकते हैं ) 
अर्थ डे (22 अप्रैल ) :





भगवान =भ (भूमि-ज़मीन  )+ग (गगन-आकाश )+व (वायु-हवा )+I(अनल-अग्नि)+न (जल-पानी)
चूंकि ये तत्व खुद ही बने हैं इसलिए ये ही खुदा हैं। 

इनका कार्य G(जेनरेट )+O(आपरेट )+D(डेसट्राय) है अतः यही GOD हैं। 
 मिट्टी  अर्थात ज़मीन अथवा भूमि ,गगन अर्थात आकाश , वायु अर्थात हवा,अनल अर्थात अग्नि,और नीर अर्थात जल या पानी  का जो स्वस्थ्य हेतु सुश्री शमीम खान ने बताए हैं  वस्तुतः उनके अनुसार आचरण करना ही वास्तविक धर्म है। लेकिन मजहबी दूकानदारों और इनके ठेकेदार एथीस्ट्स ने जनता को उलझा रखा है तथा व्यापारियों / उद्योगपतियों के हितार्थ गलत व्याख्याएँ पेश कर राखी हैं। जिस कारण जनता भटक कर शोषण व उत्पीड़न का शिकार होती रहती है। इस लेख से प्रेरित होकर काश लोग अब भी जाग्रत हो जाएँ तो इस पृथ्वी पर सुख,स्वास्थ्य व समृद्धि को प्राप्त किया जा सकता है। 
(विजय राजबली माथुर )

Monday, 17 April 2017

सोशल मीडिया पर मनमानी ------ मैत्रेयी पुष्पा

स्पष्ट रूप से पढ़ने के लिए इमेज पर डबल क्लिक करें (आप उसके बाद भी एक बार और क्लिक द्वारा ज़ूम करके पढ़ सकते हैं )  


वरिष्ठ साहित्यकार मैत्रेयी पुष्पा की ख्याति न सिर्फ बतौर कथाकार-उपन्यासकार रही, बल्कि अपने लेखन में वह स्त्री अस्मिता की बड़ी पैरोकार बनकर भी उभरी हैं। उनकी सार्वजनिक सक्रियता और बेबाक टिप्पणियों ने भी हिंदी पट्टी में उन्हें अलग मुकाम पर खड़ा किया। हिंदी अकादमी, दिल्ली की उपाध्यक्ष के तौर पर भी उनकी सक्रियता चर्चा में है, सवाल भी उठे। मैत्रेयी के अपने अवदान के साथ समाज व साहित्य में स्त्री की हैसियत, सोशल मीडिया पर साहित्य के अच्छे-बुरे स्वरूप आदि मुद्दों पर हिन्दुस्तान के वरिष्ठ पत्रकार नागेन्द्र ने उनसे लंबी बातचीत की:
अपने फेसबुक पेज पर आपने लिखा है, ‘आंधियों को पता है कि इधर के रास्ते आना है उन्हें, और हम भी जानते हैं कि कैसे पेश आया जाएगा’... इसमें कोई खास संदेश पढ़ा जाए?
जीवन के सफर में वे आसानियां नहीं देखीं, जो रास्तों को चलने लायक बना देती हैं। बचपन भी जीने और पढ़ने की जुड़वां चुनौती लेकर आया। पिता को नहीं देखा मैंने, क्योंकि वे तब खत्म हो गए, जब मैं सिर्फ 18 महीने की थी। मां ने किसानी की और फिर अपनी पढ़ाई। स्कूल हम दोनों के ही पास नहीं था। तीन-चार मील के बीहड़ सफर के बाद कक्षा में बैठना नसीब होता। मैं गांव से पढ़ने जाने वाली अकेली लड़की थी। शायद तभी से मेरे छोटे से मन ने दृढ़ता हासिल कर ली और खतरों की चुनौतियों का सामना करती हुई पढ़ती रही। बाबा से कहा करती थी कि स्कूल क्यों नहीं है, सड़क क्यों नहीं है और हमारे घर कच्चे फूस की छान वाले क्यों हैं, पक्के क्यों नहीं? बाबा कहते, सब नसीब के खेल हैं। मेरी समझ के बाहर रही यह बात और मैं नसीब के खिलाफ जाना सीखने लगी। बस तभी से मेरे साथ चल रही हैं ये पंक्तियां ...यह मेरा उद्बोधन गीत है।
सोशल मीडिया पर खास तरह की रचनात्मक सक्रियता दिख रही है। क्या नई रचनाशीलता सोशल मीडिया से निकलेगी, जैसे कभी लघु पत्रिका आंदोलन से निकली थी?
सोशल मीडिया पर रचनाशीलता से ज्यादा रचना पर मनमानी है। कोई कविता अच्छी लगी, शेयर कर ली। बस इतना ही। कूड़ा-कबाड़ा भी कम नहीं होता। लघु पत्रिका आंदोलन व्यावसायिक घरानों की पत्रिकाओं के लोप होते जाने का परिणाम था। उनमें रचनाएं मुकम्मल होती थीं। सोशल मीडिया के लेखन में वह करीनेदारी और गहराइयां कहां? यहां तो ‘जोई सोई कछु गावै’ जैसा ज्यादा है। कुछ पंक्तियों या पैराग्राफ बन जाने से साहित्य नहीं बनता।
ब्लॉगिंग को साहित्य के किस खांचे में रखेंगी...?
ब्लॉग के जरिये साहित्य लिखा जाएगा, यह समझ से परे है, क्योंकि ब्लॉग तो कोई भी लिख रहा है। माना कि साहित्य से जुडे़ लोग भी लिख रहे हैं, तो उनसे इसमें कैसी रचनाशीलता की उम्मीद की जाए? सोचने की बात है कि क्लासिक आज भी क्यों महत्वपूर्ण है? इधर कुछ ऐसी किताबें भी आ रही हैं, जो ब्लॉग लिखते-लिखते बन गईं। वे पढ़ी तो जा रही हैं, लेकिन ये फास्ट-फूड की तर्ज पर ही हैं।
क्या सोशल मीडिया ने रचनाकार का समय चुराया है? साहित्य को यह किस तरह प्रभावित कर रहा है?
सोशल मीडिया ऐसा नशा परोसता है कि चस्का लग जाता है। गंभीर विषयों पर सोचने वाला रचनाकार छोटी-मोटी, हल्की-पतली टिप्पणी करके खुश हो लेता है, क्योंकि वहां तत्काल लाइक मिलने लगता है। यह एक भ्रम में डालता है। रचनाकार को इससे बचना होगा। खासकर तब, जब उसकी रचनाशीलता प्रभावित होने लगे।
आरोप है कि साहित्य का दायरा धीरे-धीरे सिमट रहा है, यह नई पीढ़ी से दूर जा रहा है?
माना जा रहा है कि साहित्य के नाम पर अब सूचनाएं ही रह गई हैं, क्योंकि नए लेखकों का रुझान इंटरनेट ने खींचा है। फेसबुक का प्लेटफॉर्म सहज सुलभ है। इस बात को हम खारिज नहीं कर सकते कि फेसबुक पर लेखक-लेखिकाओं की जो बाढ़ आई है, उनमें से कुछ बहुत अच्छे रचनाकार होकर साहित्य में योगदान कर सकते हैं। लेकिन यह भी तय है कि अच्छे संपादक और समीक्षकों के हट जाने से निखारने और संवारने का काम कौन करेगा? पत्रिकाएं और अखबारों के साहित्यिक पृष्ठ जरूरी हैं। न तो पुराना सब बुरा है और न नया सारा अच्छा।
कभी-कभी लगता है कि साहित्य में स्त्री विमर्श और देह विमर्श के बीच कुछ घालमेल हो गया है?
स्त्री विमर्श बनाम देह विमर्श का नारा चारों ओर सुनाई देता है। राजेंद्र यादव ने स्त्री के लिए देहमुक्ति का आह्वान किया था -‘पुरुष ने स्त्री के खून में यह भावना संस्कार की तरह कूट-कूटकर भर दी कि वह सिर्फ और सिर्फ शरीर है। वह शरीर के सिवा उसकी और किसी पहचान से इनकार करता है।’ पर मैं मानती हूं कि यह विमर्श का प्रथम चरण था। अब आगे आना चाहिए। शरीर के दावे के साथ लोकतांत्रिक समाज का दावा जरूरी है। जो स्थितियां हमारे खिलाफ हैं, हमारा हक छीनती हैं, धार्मिक, सांस्कृतिक और राजनीतिक वर्चस्व कायम किए हुए हैं, उनके विरुद्ध लड़ना स्त्री विमर्श के फलक का विस्तार करेगा, पर ऐसा दिख नहीं रहा।
आपकी कहती हैं कि ‘राजनीति जैसा क्रूर इलाका कहीं नहीं’? राजनीति से इतनी नफरत क्यों?
हाथ कंगन को आरसी क्या? महाभारत से बड़ा कोई राजनीतिक ग्रंथ नहीं। कृष्ण कहते हैं- ‘मर जाने पर स्वर्ग मिलेगा, जय होने पर भूतल राज/ इससे ही निश्चय भारत, तू हो जा खड़ा युद्ध को आज’। तब से आज तक देखा जाए तो बिना स्वार्थ के संबंधों का कोई वजूद नहीं। हाल के चुनाव में जो दृश्य देखने को मिले, वे महाभारत को ही दोहरा रहे थे। कहीं धृतराष्ट्र, कहीं शकुनि। हां, जयचंदों की कमी न थी। संबंध ही खूनमखून नहीं हुए, देश के लिए बेहतरी के डंकों की चोट में कुटिल चालें चली आईं।
लेकिन आपका हिंदी अकादमी में आना भी तो राजनीति (अरविंद केजरीवाल) से नजदीकी के कारण हुआ?
लोग ऐसा कहते और फैलाते भी हैं कि अरविंद केजरीवाल से नजदीकी मुझे हिंदी अकादमी में लाई। बेशक मुख्यमंत्री ने मेरे नाम का चुनाव किया होगा, पर मेरी जान-पहचान या मिलना-जुलना हरगिज न था। ताज्जुब हुआ था, जब महिला आयोग के लिए मेरा नाम आया, फिर दूसरी बार सरकार आई, तो हिंदी अकादमी के लिए बुला लिया, जबकि मेरी कोई मुलाकात तक नहीं थी। यहां राजनीति नहीं, शायद ईमानदारी का कोई भरोसा या साहित्यकार का सम्मान होगा।
शिकायत है कि हिंदी अकादमी लेखकों, कलाकारों के लिए वह नहीं कर पाई, जिसकी अपेक्षा थी?
कुछ मामले ऐसे होते हैं, जिनमें आप अपना परिश्रम ही नहीं, जिंदगी भी झोंक दें, तब भी लोगों को संतुष्ट नहीं कर पाएंगे। ऐसा ही मामला दिल्ली हिंदी अकादमी का है। हमने साहित्यकारों, नाट्यकर्मियों और पत्रकारों के साथ शिक्षकों के लिए कार्यक्रम किए हैं। छात्रों को अकादमी से जोड़ा। अभी कुछ ही दिनों पहले हिंदू कॉलेज में तीन दिन का साहित्य महोत्सव हुआ, जिसमें हजारों लोगों ने भाग लिया। ऐसे कार्यक्रम कालेजों में ले जाने से छात्र काफी संख्या में साहित्य के प्रति आकर्षित हुए हैं। अकादमी के सम्मान में पूरी ईमानदारी बरती जाती है। रेस्पांस बहुत अच्छा है। हां, कुछ लोग हैं, जिनका मेरे आने के पहले यहां प्रभुत्व रहा होगा, उनका सिक्का चलना जरूर बंद हुआ है।
आपके रचनाकार में एक एक्टिविस्ट हावी दिखाई देता है?
मैं खुद न तो समाज सेविका बनी, न आगे बढ़कर नारे-झंडे लहराने का मन बनाया। हां, परिस्थितियां जरूर ऐसी आ टकराईं कि कभी विरोध करना पड़ा, तो कभी विद्रोह। मैं लड़कों वाले स्कूल-कॉलेज में पढ़ी हूं। पंद्रह साल की उम्र में इंटर कॉलेज के प्रिंसिपल साहब का दिल इस किशोरी पर आ गया और फिर एक्स्ट्रा क्लास के फरेब के बीच धक्का-मुक्की। दूसरे दिन लड़कों से मिलकर स्ट्राइक! मैंने उन दिनों ही जान लिया, जिस लड़की के पिता-भाई या संरक्षक नहीं होते, उसके सच्चे मित्र सहपाठी होते हैं। मैं एक्टिविस्ट थी नहीं, बना दी गई।
आपकी नई किताबवह सफर था कि मुकाम था ... राजेंद्र यादव पर केंद्रित है। क्या यह गुड़िया भीतर गुड़िया की अगली कड़ी है?
वह सफर था कि मुकाम था... अभी का लेखन है। राजेंद्र यादव का नाम मेरे साथ आते ही लोग चौकन्ने हो जाते हैं। कारण कि स्त्रयिों को लेकर राजेंद्र जी की छवि एक शिकारी की बनती रही है, जिसके पास लुभाने और ललचाने के लिए हंस पत्रिका है। मेरे लिए भी लेखक-लेखिकाओं ने ऐसा ही माना और प्रचारित किया कि पाठक भी यही बात मान लें। मेरा और उनका साथ 23 साल का रहा। मुझे लगा कि जिस विद्वान से मैंने लिखने का प्रशिक्षण पाया, जिसने मेरे उपन्यासों की पांडुलिपियों को मनोयोग से पढ़ा और जिसने उस प्रशिक्षण के दौरान कठोर शिक्षक की भूमिका अदा कर मुझे लिखने के अनुशासन में ढाला, उसके प्रति मेरा व्यवहार क्या हो? संयोग ही था कि मुझे राजेंद्र यादव मिले, जिन्होंने माना और लिखा - ‘मैत्रेयी एक विद्यार्थी की तरह आई।’ तब यह किताब एक स्त्री-पुरुष के संबंध से पहले एक लेखिका के बनने और संपादक के निर्देशन की कहानी है।
इतना व्यापक कथा संसार रचने के बाद भी आपको मनचाहा मुकाम नहीं मिला?
व्यापक कथा संसार रच पाई, यह मेरे अनुभव के खजाने की देन है। अगर इशारा किसी विशेष सम्मान या पुरस्कार की ओर है, तो बताओ कि मेरे अनुभवों का खजाना किसी का कृपाकांक्षी होने के लिए था क्या? मानो या न मानो, लेखन में आई लिखने के लिए। यहीं पता चला कि लिखने का इनाम भी मिलता है। और कुछ इनाम बड़ी भाग-दौड़, जोड़-तोड़ के बाद मिलते हैं...। मैं स्त्री हंू, स्त्री के घर से तो लेखन ही हो जाए यही बहुत, इनाम-खिताब की कौन कहे? हां, पाठक मिले और मिली अच्छी सी रॉयल्टी!
महिला कथा-लेखन की मौजूदा स्थिति से आप संतुष्ट नहीं हैं, क्यों?
महिला रचनाकार कहानियां लिख रही हैं। आप की भाषा में महिला कथाकारों की फौज भी है। होनी भी चाहिए, नहीं तो छोटी से लेकर बड़ी पत्रिकाओं का पेट कैसे भरेगा? मैं संतुष्ट होती हूं या नहीं, इससे क्या फर्क पड़ेगा? फिर भी, मेरा कहना यही रहा है कि देखना चाहिए कि कहां कमी है कि कहानियां पहले की तरह सिर चढ़कर बोलती नहीं। कैसा समय चल रहा है, इससे कोई सरोकार है नहीं। कपड़े, सेक्स और मर्द से रिलेशनशिप जैसे विषय फेडआउट हो चुके हैं।

 












संकलन-विजय माथुर, फौर्मैटिंग-यशवन्त यश

Sunday, 16 April 2017

' हिजड़ा ' नहीं इंसान कहिए --- नेशनल दस्तक / माँ होना सबसे बड़ी पहचान --- गौरी सावंत

स्पष्ट रूप से पढ़ने के लिए इमेज पर डबल क्लिक करें (आप उसके बाद भी एक बार और क्लिक द्वारा ज़ूम करके पढ़ सकते हैं ) 




' सुश्री मीना त्रिवेदी ' द्वारा गौरी सांवत के विचार पढ़ने के साथ साथ 'नेशनल दस्तक ' के लिए 'सुश्री श्वेता यादव ' द्वारा लिया गया यह साक्षात्कार भी सुनिए जिससे इन तृतीय लिंग के लोगों की समस्याओं पर प्रकाश पड़ता है। 











  संकलन-विजय माथुर, फौर्मैटिंग-यशवन्त यश

Friday, 14 April 2017

किसान की क्षमता बढ़ाना उद्देश्य था डॉ बी आर अंबेडकर का ------ प्रकाश अंबेडकर

स्पष्ट रूप से पढ़ने के लिए इमेज पर डबल क्लिक करें (आप उसके बाद भी एक बार और क्लिक द्वारा ज़ूम करके पढ़ सकते हैं )  




 हिंदुस्तान,लखनऊ,14 अप्रैल 2013 के समपादकीय पृष्ठ पर :
 14 अप्रैल,1990 को 'सप्तदिवा',आगरा मे प्रकाशित मेरा लेख : 





संकलन-विजय माथुर, फौर्मैटिंग-यशवन्त यश

Wednesday, 12 April 2017

प्रधान मंत्री फसल बीमा योजना किसानों के लिए परेशानी का कारण बन गयी है

स्पष्ट रूप से पढ़ने के लिए इमेज पर डबल क्लिक करें (आप उसके बाद भी एक बार और क्लिक द्वारा ज़ूम करके पढ़ सकते हैं ) 






Published on Apr 3, 2017
प्रधान मंत्री फसल बीमा योजना के तहत बैंक किसानों के खातों से बिना पूछे पैसे काट रहे हैं. 

जनवरी 2016 में शुरू की गयी प्रधान मंत्री फसल बीमा योजना किसानों के लिए परेशानी का कारण बन गयी है.








   
 संकलन-विजय माथुर, फौर्मैटिंग-यशवन्त यश

Sunday, 9 April 2017

विशव्यापी आतंकवाद

स्पष्ट रूप से पढ़ने के लिए इमेज पर डबल क्लिक करें (आप उसके बाद भी एक बार और क्लिक द्वारा ज़ूम करके पढ़ सकते हैं )


Hindustan,Lko.,26-3-2017,Page --- 1 

संकलन-विजय माथुर, फौर्मैटिंग-यशवन्त यश

Friday, 7 April 2017

गलती का नासूर ------ शशांक

स्पष्ट रूप से पढ़ने के लिए इमेज पर डबल क्लिक करें (आप उसके बाद भी एक बार और क्लिक द्वारा ज़ूम करके पढ़ सकते हैं ) 






 संकलन-विजय माथुर, फौर्मैटिंग-यशवन्त यश

Thursday, 6 April 2017

kishori amonkar

स्पष्ट रूप से पढ़ने के लिए इमेज पर डबल क्लिक करें (आप उसके बाद भी एक बार और क्लिक द्वारा ज़ूम करके पढ़ सकते हैं ) 






    संकलन-विजय माथुर, फौर्मैटिंग-यशवन्त यश

Sunday, 2 April 2017

Saturday, 1 April 2017

मूर्खता भुनाने का कौशल : अब हम मूर्ख नहीं बनेंगे ------ वीना सिंह

स्पष्ट रूप से पढ़ने के लिए इमेज पर डबल क्लिक करें (आप उसके बाद भी एक बार और क्लिक द्वारा ज़ूम करके पढ़ सकते हैं ) 
"लो जी! मैने सारी मूर्खता की लिस्ट खोल दी, अब आप मनचाही मूर्खता भुनाने का मन बना सकते हैं। इन सबमें तरक्की की पूरी गारंटी है, बस आपको अपने ईमान की गारंटी खोनी है। वे चौक कर बोले, ना बाबा ना और कुछ खोने को कह दो मंजूर है पर ईमान नहीं खो सकेंगे। मैं मुस्कराई शर्माजी ईमान के अलावा और है क्या आपके पास ? जो खोने को कह दूँ। मेरे दिये विवरण से शर्माजी मूर्खता की जटिलता को समझ गये। वे बोले- मूर्खता भुनाने का कौषल मुझमें नहीं। मैं यूँ ही सही।"
वीना सिंह
 
व्यंग्य लेख: वीना सिंह

भई! किसी को मूर्ख बनाना तो फिर भी आसान है पर मूर्खता भुनाना सरल काम नहीं है। लेकिन जिसको भी मूर्खता भुनाना आ गया समझ लो भइया वह छा गया। अभी तक का रिकार्ड तो यही बताता है कि छाए वही हैं, अपनी पहचान बनाये वही हैं जो मूर्खता भुनाने का हुनर सीख गये है। बुद्धिमानों की तो आजकल कद्र ही नहीं होती, मूर्ख ही हाईलाइट होते रहते हैं। तो शर्माजी ने सोचा कि अब मूर्खता सीखी जाए और भुनाई जाए।
हां जी! शर्माजी अपनी बुद्धिमानी से त्रस्त हैं। कह रहे हैं मैं पढ़ाई लिखाई में टापर रहा हूं पर आज तक पापड़ बेल रहा हूं। मूर्ख लोग अपनी मूर्खता भुना रहे है। सुख सुविधाओं भरा जीवन बिता रहे हैं और मैं अपना ज्ञान तक नहीं भुना रहा हूं। अपनी डिग्रियों भरी फाइल लिए यहां-वहां घूम रहा हूं। इससे तो अच्छा मैं मूर्ख ही होता। मैने कहा नहीं शर्माजी केवल मूर्ख होने से काम नहीं चलताए भुनाना आना भी जरूरी है। फिर समझ लो जीवन में उमंग और तरंग है। अब तो उन्होंने मूर्ख बनने तथा मूर्खता भुनाने की ठान ली। बोले बताओ ऐसे मूर्खों का पता ठिकाना, मैं उनकी शरण में जाकर यह हुनर सीख लूंगा। अपना बचाव करते हुए मैने कहा- वैसे मैं मूर्ख तो नहीं हूं पर कुछ मूर्खों के पते ठिकाने जानती जरूर हूं । अपने देश में मूर्ख तो वैसे तरह-तरह के हैं पर मैं कुछ खास मूर्खों के नाम गिनाती हूं जो हम सबके रोज मर्रा के कामों में आते है। हम इनसे चाह कर भी बच नहीं पाते हैं। मूर्ख बन ही जाते है। अब आप ज्योतिषी जी को ही ले लीजिए, इनके पास दूसरों के जीवन का भूत, भविष्य और वर्तमान तीनों कालों का पूरा लेखा जोखा होता है। यह दूसरों का जीवन चक्र बताते बताते अपनी कई पीढ़ियों का जीवन चक्र सुधार लेते हैं। शरण में गये शरणार्थियों के जीवन की व्याधियों को दूर करने के लिए तंत्र-मंत्र टोना-टोटका में सिद्धि प्राप्त हितैषियों के पास भेज देते है (जैसे डॉक्टर अपने मरीज को चेकअप के बाद टेस्टिंग के लिए दूसरे के पास रेफर कर देता हैं) फिर दोनों मिल बांट कर खाते हैं।
इसी तरह धार्मिक संत, कथावाचक, संन्यासी, स्वामीजी, गुरूजी आदि अपने मुंह से बोला एक-एक शब्द भुनाते हैं। यह तथाकथित धर्मात्मा लोगों की आत्मा में घुस कर खूब धन और यश कमाते हैं। अनायास ही भगवान का दर्जा पा जाते हैं। लोगों का आनन-फानन पैसा काले धन की तरह छुपाते हैं और भोग विलासिता भरा सुखमय जीवन बिताते हैं। यह सब बड़ी-बड़ी कोठियों के मालिक होते हैं और दिखावे में एक छोटी कुटी व सादा भोजन में ही सुख शांति बताते हैं। पढ़ते एक किताब तक नहीं और खुद को षास्त्रों का ज्ञाता जताते है। इसके अतिरिक्त गांव के नीम हकीम हैं (झोलाछाप डॉक्टर)। भई! इनके क्या कहने ? यह बड़े-बड़े सर्जनों पर भी भारी हैं। इनकी तो बात ही निराली है इनके थैले में हर मर्ज का इलाज है (यानि यह डॉक्टर बाबू छोटी बड़ी हर मर्ज के एक्सपर्ट हैं।) समझ लो इनका थैला जिन्न का चिराग है जब इससे इलाज निकलता है, मरीज को समाप्त और डॉक्टर जी को मालामाल कर देता है। 
इसके अलावा यदि आपको सबसे बड़ी मूर्खता भुनानी हो तो नेताजी बनने की ठान लीजिए, मतलब देश की बागड़ोर की जिम्मेदारी ले लीजिए। बड़ा काम है पर मूर्खता से आसान है। ज्ञान, ध्यान से परे इसमें कूटनीति ही महान है। दिमाग़ के घोड़े चाहें बांध लो बस जुबान को सरपट दौड़ाना है। सबको सुमधुर बातों से लुभाना है। सारी मूर्खताओं में यह बेजोड़ है। चाहुदिषाओं में इसका षोर है। इससे अलग विज्ञापन व्यापार, हाट-बाजार, ज्ञान-विज्ञान, आचार-विचार आदि में भी अनेकों मूर्खता भुनाने के उपाय हैं।
लो जी! मैने सारी मूर्खता की लिस्ट खोल दी, अब आप मनचाही मूर्खता भुनाने का मन बना सकते हैं। इन सबमें तरक्की की पूरी गारंटी है, बस आपको अपने ईमान की गारंटी खोनी है। वे चौक कर बोले, ना बाबा ना और कुछ खोने को कह दो मंजूर है पर ईमान नहीं खो सकेंगे। मैं मुस्कराई शर्माजी ईमान के अलावा और है क्या आपके पास ? जो खोने को कह दूँ। मेरे दिये विवरण से शर्माजी मूर्खता की जटिलता को समझ गये। वे बोले- मूर्खता भुनाने का कौषल मुझमें नहीं। मैं यूँ ही सही।
http://dastaktimes.org/archives/151490

 March 27, 2017  - In दस्तक-विशेष, लखनऊ




जनसंदेश टाईम्स , लखनऊ, 28-03-2017 
संकलन-विजय माथुर, फौर्मैटिंग-यशवन्त यश

******************************************************************
facebook comments :
01-04-2017